Print Document or Download PDF

पेशाब में दिक्कत और उपचार

Feed by sandy Cat- Health & Beauty

पेशाब जल्दी जल्दी आना
बाबुल की कच्ची फलियां छाया में सुखाइए। सूखने पर महीन पीस देशी घी में भून कर सामान मिश्री इसमें मिला दें। सुबह शाम ४-४ ग्राम गर्म दूध के साथ खाइए। बार बार मूत्र आना या बिस्तर पर जाना समाप्त करेगा।
पेशाब में जलन
हरे आंवले का रस १ छटाँक, शहद आधी छटांक, इन्हें मिलाकर सुबह शाम लें। इससे पेशाब खुलकर आएगा और जलन में लाभप्रद है।
सुबह गन्ना अधिक चूसिए।
तुलसी की पाती चबाने से जलन ठीक होती है।

पेशाब में खून आना
एक करेला ५० ग्राम पानी में पीसकर ५ दिन दोपहर में लें। परहेज : गर्म चीज, लाज मिर्च, खटाई और gud।
दूध घास १० ग्राम, मिर्च दखनी ५ दाने ५० ग्राम पानी में पीसकर दिन में एक तीन चार दिन दीजिए। खून आना बंद हो जाएगा।

पेशाब का रुकना
मका के भुट्टे के सुनहरे बाल २० ग्राम २५० ग्राम पानी में उबालें।  जब पानी ५० ग्राम बचे तब छानकर ठंडा करके पिलाने से मूत्र साफ़ आता है।
५० ग्राम कलमीशोरा कपडे में भिगोकर रखिये, कुछ देर बाद पेशाब साफ़ आएगा।

 

Read More.


Go Back