Print Document or Download PDF

खांसी और काली खांसी होने पर ये घरेलु उपाय अपनाये।

Feed by sandy Cat- Health & Beauty

प्रायः: सर्दी से या मौसम बदलने पर खांसी होती है, जिसमें बलगम निकलता है या फिर सूखी खांसी बनती है।

अदरक का रस १ तोला, शहद १ तोला, दोनों गर्म करके नित्य दिन में तीन बार दस दिन तक पिलाये। दमा खांसी ठीक करेगा।

काली मिर्च महीन पीस कर चटनी बना लें और उसे खाने से पहले लें, दमा, खांसी और सुखी खांसी दुरुस्त करेगी।

बंशलोचन एक रत्ती लें कर उसे महीन पीस लें फिर उसे शहद के साथ हलके हलके चाटे खांसी मिट जाएगी।

काली खांसी:

प्रायः यह खांसी छोटे बच्चों में होती है, बच्चा खासते खांसते वमन कर देता है। चेहरा सुर्ख हो जाता है, तथा डीएम घुटता है। ऐसे में ये कुछ उपाय अपनाये।

५ बादाम शाम को पानी में भिंगों दें, सुबह छीलकर मिश्री और एक कली लहसुन को मिलाकर पिला दें। २-३ दिन में काली खांसी साफ़ कर देगा। बच्चे को लहसुन माला पहनाए तथा उसके तेल की मालिश उत्तम है।

लौंग अग्नि में भून कर शहद मिलाकर चटाने से कुकर खांसी में फ़ायदा होगा।

 

कुछ उपयोगी नापतोल: 8 चावल = 1 रत्ती | 8 रत्ती = 1 माशा | 4 माशा =1 टंक, 12 माशा = 1 तोला | 5 तोला = 1 छटांक | 4 छटांक = 20 तोला या 1 पाव | 8 छटांक या 40 तोला = 1 अधसेरा | 16 छटांक या 80 तोला = 1 सेर | 5 सेर = 1 पसेरी | 8 पसेरी = 40 सेर या 1 मन | 1 केजी = 86 तोला या 1 सेर 6/5 छटांक | 100 केजी = 1 क्विंटल या 2 मन 27 5/2 सेर।।. Read more at: http://fastread.in/explore.php.

Read More.


Go Back