Print Document or Download PDF

आँख के रोग और उपाय

Feed by sandy Cat- Health & Beauty

नेत्रों में आला, माडा, फूली, नाखूना के उपचार : काली बछिया का मूत्र को फूल के बर्तन में तीन गंटे तक रखे, फिर बोतल में रख दें. इसे दो बूंदे निकाल टेटरों मन डाले, तीसरे दिन मूत्र अदल देना चाहिए ।

अंगूर का रस कलई के पात्र में गरम करें। गाढ़ा होने पर बर्तन में निकाल लें और रात्रि में नेत्रों में दो तीन बून्द डालें।

 

आँख की खुजली :

कच्ची फिटकरी गुलाब जल में बारीक करके मिलाकर लगाओ, खुजली में लाभप्रद है।

जो आँख दुखती हो उसके दूसरी और के पेअर के अंगूठे के नाखून पर आक के दूध का लेप करें, दोनों दुखती हो तो दोनों पर लेप करें और करके वो खाए नहीं।

 

आँख की फूली की दवा :

बरगद के दूध में कपूर घिस कर नेत्रों में लगाएं छोटी बड़ी फूली सब ख़त्म हो जाएगा।

सुद्ध शहद में सेंधा नमक मिला कर नेत्रों में डाले थोड़े ही दिन में फूली जड़ से मिट जाएगा।

 

ज्योति बढ़ाने वाला काजल :

ताँबे के बर्तन में मांगरा का रस निचोड़िये फिर साफ़ रुई भिगोंकर आँखों पर लगाइए। और सरसों तेल के दिए में  आग जलाइए फिर उससे काजल बनाइये और उस काजल को रोज नेत्रों में लगाए आपके रतौंधी ढूंढ खुजली खत्म होगा और रोशनी बढ़ेगी। 

 

कुछ उपयोगी नापतोल: 8 चावल = 1 रत्ती | 8 रत्ती = 1 माशा | 4 माशा =1 टंक, 12 माशा = 1 तोला | 5 तोला = 1 छटांक | 4 छटांक = 20 तोला या 1 पाव | 8 छटांक या 40 तोला = 1 अधसेरा | 16 छटांक या 80 तोला = 1 सेर | 5 सेर = 1 पसेरी | 8 पसेरी = 40 सेर या 1 मन | 1 केजी = 86 तोला या 1 सेर 6/5 छटांक | 100 केजी = 1 क्विंटल या 2 मन 27 5/2 सेर।।. Read more at: http://fastread.in/explore.php

Read More.


Go Back