Print Document or Download PDF

बवासीर और इस्का उपचार

Feed by sandy Cat- Health & Beauty

कडवा तम्बाकू, बिना भूनी कलई छनी हुई बराबर लेकर दो ईट लेकर बीच में आग डालकर एक तोला दवा ऊपर डाल धूनी देने से बवासीर के मस्से तीन दिन मेन नष्ट हो जाते है यह अनुभूत योग है।

बवासीर के मस्से का दर्द का उपचार

भांग के ताजा पत्ता एक तोला पाव पानी में डालकर पकावें जब पत्ते जल जाएं तो उनमें एक माशा अफीम मिलाकर घोटो पांच तोले गोन्द मिलाकर मरहम बनाओ, बवासीर के मस्सों पर लगाने से समस्त दर्द, मस्सों में जलन और सूजन में शीघ्र फायदा हो जाता है तथा ठंडक पड जाता है, मस्से थोडे दिन में समाप्त हो जाते हैं।

बवासीर की राम बाण दवा

देढ तोला भांगरे का रस एक माशा फिटकरी सफेद पीस कर उसे मिलाकर पीने से फौरन बवासीर से खून आना बन्द होता है। आठ दिन में खूनी और बादी के मस्से नष्ट हो जाते हैं।

खूनी बवासीर का इलाज

रसौत एक छटांक को गंदला पानी में तर करें, फिर उसको सुखाकर कूट-छानकर एक लोहे के पात्र में डाल लें और नीचे हल्की आग रखें जब गोली बन्धने लायक गाढा हो जाए तो चना के बराबर गोली बना कर एक गोली सुबह पांच तोले कंवर गट्ठा के साथ लें। पीपल की लकडी को जलाकर उसके अंगारे घडे में डालकर मुंह बन्द कर दें और उसके कोयले बनालो, कोयला बारीक पीसकर एक-एक तोला दिन में तीन बार बासी पानी से खाने से खून एक –दो दिन में बन्द हो जायेगा। परंतु दवा इसेमाल पन्द्रह दिन तक करना चाहिये, यह कब्ज दूर करती और क्षुधावर्धक है।
बहुत पुराना गुड दो छटांक, रीठा के छिलके का चूर्ण दो छटांक लो, रसौत और रीठा के छिलकों को खरल कर जब मिल जायें तो मटर समान गोली बना लें और एक –एक गोली सुबह शाम दूध के साथ लें और दूध घृत खूब खाईये, अवस्था और ताकत के अनुसार दवा की मात्रा कम ज्यादा हो सकता है, गरम और कब्ज करने वाले पदार्थ, सर्दी और बादी चीजों का परहेज करें। ये दवा हर मौसम में प्रयोग कर सकते हैं। नीम की निबौली, आम की गुठली, जामुन की गुठली प्रत्येक की गिरी 6-2 माशे ग्वार 4 माशे, खुरफा के दो बीज, एलुआ दो माशे पोस्त के पानी में चने बराबर गोली बनाकर 2 गोली रात को पानी के साथ खाने से बादी बवासीर बन्द होगा।

पारम्परिक भारतीय वज़न इस प्रकार हैं[1] -

४ धान की एक रत्ती बनती है, ८ रत्ती का एक माशा बनता है, १२ माशों का एक तोला बनता है, ५ तोलों की एक छटाक बनती है, १६ छटाक का एक सेर बनता है, ५ सेर की एक पनसेरी बनती है, ८ पनसेरियों का एक मन बनता है, या पुराने भारतीय नाप-तौल :- 8 खसखस = 1 चावल,

8 चावल = 1 रत्ती, 8 रत्ती = 1 माशा, 4 माशा =1 टंक, 12 माशा = 1 तोला, 5 तोला = 1 छटांक, 4 छटांक = 20 तोला या 1 पाव, 8 छटांक या 40 तोला = 1 अधसेरा, 16 छटांक या 80 तोला = 1 सेर, 5 सेर = 1 पसेरी, 8 पसेरी = 40 सेर या 1 मन, 1 केजी = 86 तोला या 1 सेर 6/5 छटांक, 100 केजी = 1 क्विंटल या 2 मन 27 5/2 सेर।

Read More.


Go Back