Print Document or Download PDF

अपच दूर करने का चूर्ण बनायें घर में

Feed by sandy Cat- Health & Beauty

अजवायन देशी, सफेद जीरा, धनिया, काली मिर्च, काला नमक 1-1 छटांक, टाटरी डेढ तोले, हीरा हींग भुनी 6 माशे सबको कूट-छानकर बराबर मिश्री मिलादो। 1-1 रत्ती जवान पर रखकर रस पीओ। जी मिचलाना, खट्टी डकार, पेट में गैस बनना और कब्ज दूर करेगा।

नौसादर मदानी, सुहागा भुना, पीली हड का छिलका बडी हरड का गूदा, काली हरद, काला नमक, सौंफ़, काली मिर्च, नरकनेर, वायविडग प्रत्येक 1-1 तोला, नमक लाहौरी 1 तोले सबको कूट-छानकर अर्क गुलाब में जंगली बेर जैसी गोली बनाओ, भोजन के बाद 1 गोली खाने से अपच दूर होती है पाचन शक्ति बढाकर अमाशय खरल होता है।

 

पारम्परिक भारतीय वज़न इस प्रकार हैं[1] -

४ धान की एक रत्ती बनती है, ८ रत्ती का एक माशा बनता है, १२ माशों का एक तोला बनता है, ५ तोलों की एक छटाक बनती है, १६ छटाक का एक सेर बनता है, ५ सेर की एक पनसेरी बनती है, ८ पनसेरियों का एक मन बनता है, या पुराने भारतीय नाप-तौल :- 8 खसखस = 1 चावल,

8 चावल = 1 रत्ती, 8 रत्ती = 1 माशा, 4 माशा =1 टंक, 12 माशा = 1 तोला, 5 तोला = 1 छटांक, 4 छटांक = 20 तोला या 1 पाव, 8 छटांक या 40 तोला = 1 अधसेरा, 16 छटांक या 80 तोला = 1 सेर, 5 सेर = 1 पसेरी, 8 पसेरी = 40 सेर या 1 मन, 1 केजी = 86 तोला या 1 सेर 6/5 छटांक, 100 केजी = 1 क्विंटल या 2 मन 27 5/2 सेर।

Read More.


Go Back