Print Document or Download PDF

गर्भ श्राव पर

Feed by sandy Cat- Health & Beauty

नागकेशर अनार का पत्ता, खस कमल के फूल, पदमाख, गेरू, गुरुकुह, नागरमोथा, सभी सामान मात्रा और सभी के बराबर मिश्री मिलाकर चूर्ण कर लें।

बबूल के कोमल पत्ते, साथ चावल, मुल्तानी मिट्टी प्रत्येक २-२ तोले, ११ तोले पानी में डेढ़ घंटे भिगोकर छानिए और पानी तथा भीगी औषधियों को रख दें।

प्रयोग : गोबर बासम ३ माशे उपर्युक्त पानी से, २ घंटे बाद व् शाम को उक्त चूर्ण ३-३ माशे ताजे दूध से दें, भीगी दवा का चूर्ण करके पेडू पर लेप करें, ३-४ दिन सेवन से भयंकर रक्त पात एवं रक्तश्राव बंद हो जाता है।

कुछ उपयोगी नापतोल: 8 चावल = 1 रत्ती | 8 रत्ती = 1 माशा | 4 माशा =1 टंक, 12 माशा = 1 तोला | 5 तोला = 1 छटांक | 4 छटांक = 20 तोला या 1 पाव | 8 छटांक या 40 तोला = 1 अधसेरा | 16 छटांक या 80 तोला = 1 सेर | 5 सेर = 1 पसेरी | 8 पसेरी = 40 सेर या 1 मन | 1 केजी = 86 तोला या 1 सेर 6/5 छटांक | 100 केजी = 1 क्विंटल या 2 मन 27 5/2 सेर।।. Read more at: http://fastread.in/explore.php

Read More.


Go Back