Print Document or Download PDF

बवासीर नामक तेल

Feed by sandy Cat- Health & Beauty

हीरा कसीस, कलयारी कूट, सोंठ, पीपर, सेंधा-नमक, मनसिल, सफेद कन्नेर, वायविडंग, चीते की छाल, कडसादंती कडवी तोरई के बीज, चौक हरताल 1-1 तोला लें, कुल्ली कर पानी से पीस तिल के एक सेर तेल में मिला तेल से चौगुना गाय का मूत्र को गरम होने तक धीमी-धीमी आग से पकाओ, तेल ही शेष रहने पर छानकर शीशियों में भरें और बवासीर के मस्सो पर लगाने से वे उखड जाते है, गुदा की नली में नुकसान नही होता ये रामबाण औषधि है।

पारम्परिक भारतीय वज़न इस प्रकार हैं -

४ धान की एक रत्ती बनती है, ८ रत्ती का एक माशा बनता है, १२ माशों का एक तोला बनता है, ५ तोलों की एक छटाक बनती है, १६ छटाक का एक सेर बनता है, ५ सेर की एक पनसेरी बनती है, ८ पनसेरियों का एक मन बनता है, या पुराने भारतीय नाप-तौल :- 8 खसखस = 1 चावल,

8 चावल = 1 रत्ती, 8 रत्ती = 1 माशा, 4 माशा =1 टंक, 12 माशा = 1 तोला, 5 तोला = 1 छटांक, 4 छटांक = 20 तोला या 1 पाव, 8 छटांक या 40 तोला = 1 अधसेरा, 16 छटांक या 80 तोला = 1 सेर, 5 सेर = 1 पसेरी, 8 पसेरी = 40 सेर या 1 मन, 1 केजी = 86 तोला या 1 सेर 6/5 छटांक, 100 केजी = 1 क्विंटल या 2 मन 27 5/2 सेर।

Read More.


Go Back