Print Document or Download PDF

वातकफ के रोग पर परिक्षित योग

Feed by sandy Cat- Health & Beauty

मंत्र: ग्रंथिद्रजावर पुर कृमिशत्रु भोरंगी भ्रंगी त्रिकुटनल कट कफ पोकरणां, राजायता ब्रहितका द्वयदोषभूत केशू च रात कबचा चबिकंब्रकीणाम।

प्रयोग : सफेद फूल वाली लें, पचांग सहित सापद कर कटे बाद में अर्क निकाल पानी यादाद से भरें या इसका रस ताजे पानी में मिलादें या अर्क व रस की मात्रा 5 बून्द से दस बून्द तक एक या दो तोले पानी में मिलाकर दें, पीलिया, पांडु जलोदार, पेट फूलना, कब्ज मूत्र की रुकावट श्वांस इत्यादी की रामवाण औषधि है।

पारम्परिक भारतीय वज़न इस प्रकार हैं -

४ धान की एक रत्ती बनती है, ८ रत्ती का एक माशा बनता है, १२ माशों का एक तोला बनता है, ५ तोलों की एक छटाक बनती है, १६ छटाक का एक सेर बनता है, ५ सेर की एक पनसेरी बनती है, ८ पनसेरियों का एक मन बनता है, या पुराने भारतीय नाप-तौल :- 8 खसखस = 1 चावल,

8 चावल = 1 रत्ती, 8 रत्ती = 1 माशा, 4 माशा =1 टंक, 12 माशा = 1 तोला, 5 तोला = 1 छटांक, 4 छटांक = 20 तोला या 1 पाव, 8 छटांक या 40 तोला = 1 अधसेरा, 16 छटांक या 80 तोला = 1 सेर, 5 सेर = 1 पसेरी, 8 पसेरी = 40 सेर या 1 मन, 1 केजी = 86 तोला या 1 सेर 6/5 छटांक, 100 केजी = 1 क्विंटल या 2 मन 27 5/2 सेर।

Read More.


Go Back