Print Document or Download PDF

कंठमाला पर अनुभूत प्रयोग

सिरस के बीज को कूट कर छान कर भाग, शहद दो, भाग मिलाकर हांडी में रख उस पर ढक्कन रख उडद के आटे से मुख बन्दर कर एक सप्ताह धूप में रखो। सात दिन बाद प्रतिदिन एक सप्ताह धूप में रखो, सात दिन बाद प्रतिदिन 1 तोला खाएं। खट्टी, भारी, वादी की चीजों, को परहेज करें, दो या तीन सप्ताह सेवन करने से कंठमाला विषवेल हमेशा को नष्ट हो जाती है।

दुसरा आसान दवाई : मूली के बीज बकरी के दूध में पीसकर लेप लगाएं।

पारम्परिक भारतीय वज़न इस प्रकार हैं -

४ धान की एक रत्ती बनती है, ८ रत्ती का एक माशा बनता है, १२ माशों का एक तोला बनता है, ५ तोलों की एक छटाक बनती है, १६ छटाक का एक सेर बनता है, ५ सेर की एक पनसेरी बनती है, ८ पनसेरियों का एक मन बनता है, या पुराने भारतीय नाप-तौल :- 8 खसखस = 1 चावल,

8 चावल = 1 रत्ती, 8 रत्ती = 1 माशा, 4 माशा =1 टंक, 12 माशा = 1 तोला, 5 तोला = 1 छटांक, 4 छटांक = 20 तोला या 1 पाव, 8 छटांक या 40 तोला = 1 अधसेरा, 16 छटांक या 80 तोला = 1 सेर, 5 सेर = 1 पसेरी, 8 पसेरी = 40 सेर या 1 मन, 1 केजी = 86 तोला या 1 सेर 6/5 छटांक, 100 केजी = 1 क्विंटल या 2 मन 27 5/2 सेर।

Read More.


Go Back