Print Document or Download PDF

चेचक न निकले

सत्यानाशी का कोमल पत्ता लेकर थोडा गुड मिलाकर दें, चेचक निकलती है।

बिगडी चेचक पर

तबको हरताल, गाय का घी दोनों को मिलाकर गरम कर उसमें से फरेरी से चेचक पर लगा दो तात वह सूख जाती है।

एक पाव रोथे का काढा 1 तोला फिटकरी डाल पकाकर सुखा दे 1 से 4 रत्ती पानी से दे दर्द बन्द होगा।

पारम्परिक भारतीय वज़न इस प्रकार हैं -

४ धान की एक रत्ती बनती है, ८ रत्ती का एक माशा बनता है, १२ माशों का एक तोला बनता है, ५ तोलों की एक छटाक बनती है, १६ छटाक का एक सेर बनता है, ५ सेर की एक पनसेरी बनती है, ८ पनसेरियों का एक मन बनता है, या पुराने भारतीय नाप-तौल :- 8 खसखस = 1 चावल,

8 चावल = 1 रत्ती, 8 रत्ती = 1 माशा, 4 माशा =1 टंक, 12 माशा = 1 तोला, 5 तोला = 1 छटांक, 4 छटांक = 20 तोला या 1 पाव, 8 छटांक या 40 तोला = 1 अधसेरा, 16 छटांक या 80 तोला = 1 सेर, 5 सेर = 1 पसेरी, 8 पसेरी = 40 सेर या 1 मन, 1 केजी = 86 तोला या 1 सेर 6/5 छटांक, 100 केजी = 1 क्विंटल या 2 मन 27 5/2 सेर।

Read More.


Go Back