Print Document or Download PDF

विज्ञापन

Feed by sandy Cat- Essay

आधुनिक संसार में विज्ञापन के बिना कोई व्यवसाय सफल नहीं हो सकता। सभी वस्तुओं के मूल्यों में विज्ञापन की लागत सम्मिलित होती है। अत: यह आजकल एक आवश्यक अंग बन गया है।

यदि व्यापक रुप से समझा जाए तो व्यापार या व्यवसाय में विज्ञापन का वही स्थान है, जो संसार में राजनीति तथा धर्म का है। आज प्रत्येक व्यवसाय में या कम्पनी द्वारा अपने उत्पादों को बाजार में स्थान प्रदान करने के लिए विज्ञापन दिया जाता है। विज्ञापन के द्वारा कम्पनियां अपने उत्पाद के गुणों को लोगों तक पहुंचाती है क्योंकि आजकल मशीनों द्वारा बडे पैमाने पर उत्पादन किया जाता है। अत: उस उत्पादन की गई वस्तुओं की खपत के लिए बडे बाजार की आवश्यकता होती है। इन वस्तुओं को देश के विभिन्न राज्यों में भेजा जाता है। अत: सभी स्थानों पर जाकर लोगों को बताना सम्भव नही है कि, उत्पाद या वस्तु में क्या गुण है? अत: विज्ञापन के माध्यम से वस्तु के विषय में लोगों को जानकारी दी जाती है। संचार के माध्यमों तथा यातायात के साधनों में वृद्धि के कारण अंतर्राष्ट्रीय व्यापार सम्भव हो गया है और इसके विकास में विज्ञान का बडा योगदान रहा है।

विज्ञापन के द्वारा बडी-बडी विज्ञापन एजेंसियां व संस्थाएं लोगों को कम्पनियों के उत्पादों व सेवाओं के विषय में बताती है। किंतु एक समस्या तब उत्पन्न हो जाती है जब अपने निजी लाभ के लिए कम्पनियां विज्ञापन के माध्यम से अपने उत्पाद या सेवाओं के विषय में गलत जानकारियां लोगों को या उपभोक्ताओं को देती है। अत; वह अपने लाभ के लिए उपभोक्ताओं को हानि पहुंचाती है।

गलत विज्ञापनों के द्वारा दो प्रतिद्वन्दी कम्पनियां अच्छी क्षमता वाले उपभोक्ताओं की मानसिकता का शोषण करके ऐसी वस्तुओं की मार्केटिंग करवाती है, जो वस्तुऐं के उत्पादन में विषैली वस्तुओं व मांव स्वास्थ्य को हानि पहुंचाती है। इन वस्तुओं के उत्पादन में विषैली वस्तुओं व मानव स्वास्थ्य को हानि पहुंचाने वाली सामग्री का उपयोग होता है और ये कम्पनियां उन वस्तुओं को बडी सरलता से, अच्छे विज्ञापनों की सहायता से लोगों या उपभोक्ताओं को बेचती है।

किंतु इसका तात्पर्य यह नही है कि व्यवसाय में विज्ञापन का उपयोग एक बुराई है। अपितु विज्ञापन के उपयोग द्वारा समाज को लाभ भी पहुंचाया जा सकता है। अत: विज्ञापन एक ऐसा उपकरण है जो दुर्भावना व लाभ के लिए कार्य करने वाले व्यवसाइयों के द्वारा समाज की बुराई के लिए उपयोग किया जाता है वहीं दूसरी ओर ऐसे लोगों के लिए जो समाज का लाभ व भला करना चाहते है, उनके लिए वरदान का कार्य करता है।

Read More.


Go Back