Print Document or Download PDF

कम्प्यूटर

Feed by sandy Cat- Essay

मनुष्य के आधुनिक जीवन में विज्ञान का एक महत्वपूर्ण योगदान है। पुराने समय में जो सन्देश हम कबूतरों के द्वारा भेजा करते थे, वही सन्देश आज मशीनी यंत्रों द्वारा एक स्थान से दूसरे स्थान पर भेजे जाते हैं। बैज्ञानिकों ने तथा तकनीकी विशेषज्ञों ने बहुत से यंत्रों तथा उपकरणों का अविष्कार किया है, जिसमें कम्पूटर का अपना एक अलग स्थान है। सबसे पहला इलैक्ट्रानिक कम्प्यूटर ENIAC नामक कम्पनी ने 1946 में बनाया। इसकी मदद से मुस्किल से मुश्किल गणनायें आसानी से की जा सकती थी। इस यंत्र ने पूरे विश्व में विज्ञान के क्षेत्र में क्रांति ला दी।

पुराने समय में, जब कम्प्यूटर का अविष्कार हुआ तब कम्प्यूटर का आकार एक कमरे के बराबर था। धीरे-धीरे जैसे-जैसे यह युग आगे बढा कम्प्यूटर के निर्माण में और अन्य क्रांतिकारी परिवर्तन आए तथा इसका आकार घट गया तथा इसकी क्षमता बढ गई। कम्प्यूटर पर कार्य करने के लिए कई यंत्र लगे होते हैं जिनकी मदद से हम कार्यो को आसानी से तथा कम समय में कर सकते हैं।

कम्प्यूटर मुख्यत: दो भागों में बंटा होता है-हार्डवेयर तथा साफ्टवेयर। हार्डवेयर के अंतर्गत वह भाग आते हैं, जो हमें दिखाते देते हैं या जिनकी मदद से हम कम्प्यूटर पर कार्य कर सकते है जैसे – मॉनीटर, की-बोर्ड तथा सी.पी.यू. आदि तथा साफ्टवेयर में हम कार्य करते हैं जिसका मदद से परेशानियों को हल किया जा सकता है।

कम्प्यूटर मुख्यत: दो प्रकार के होते हैं-डिजीटल तथा एनालोग। ये दोनों ही जटिल इलैक्ट्रिक सर्किटस से बने होते हैं तथा गणनाओं के हल कर सकते हैं तथा उनकी मदद से मुश्किल गणनाएं जैसे-जोडना, घटना, गुणा करना आदि कार्य आसानी से बहुत कम समय में पूरे किए जा सकते है।

कम्प्यूटर का आज देश में हर क्षेत्र में एक महत्वपूर्ण योगदान है। स्कूलों, कॉलेजों, ऑफिसों, सिनेमा, यातायात, मनोरंजन आदि सभी क्षेत्रों में कम्प्यूटर महत्वपूर्ण भूमिका निभा रहा है।

कम्प्यूटर का प्रयोग सेना के क्षेत्र तथा रॉकेट, सेटेलाइट आदि के लिए भी जिया जा रहा है। कम्प्यूटर के क्षेत्र मे काफी क्रांतिकारी परिवर्तन आ रहे हैं तथा हमारा देश इसमें बढ-चड कर भाग ले रहा है तथा इस क्षेत्र में विकास भी कर रहा है। हमें अपने देश की मदद करनी चाहिए।

Read More.


Go Back