Print Document or Download PDF

एक प्रदर्शनी का दर्शन

Feed by Kumar Sanu Cat- Essay

प्रदर्शनी में औद्योगिक शोपीस, साधारण उपयोग की बाजारी वस्तुयें, स्थानीय रेस्टोरेंट से महंगे रेस्टोरेंट, चमकीली लाइटें इत्यादी थे। पूरी प्रदर्शनी दूसरे कनॉट प्लेस की तरह लग रही थी।

प्रदर्शनी में कृषि संबन्धी वतुयें अधिक नही थीं और न ही ऐसा सामान था जो आम व्यक्ति के लाभ का हो। प्रदर्शनी में ऐसा कुछ नहीं था, जिससे कृऍषि विशेषज्ञ कुछ लाभकारी तथ्य जान सकें। एक मण्डप से दूसरे मण्डप में जाने पर भी कुछ भी नय नहीं मिला। ऐसी कोई वस्तु नहीं थी, जिसके विषय में आपको जानना चाहिए या आप जनाना चाहें।

प्रथम मण्डप जिसमें, मैं गया वह तिलक ब्रिज से आने वाले प्रवेश द्वार के नजदीक था। यह कृषि भवन का मण्डप था। यह मण्डप बहुत घुमावदार था। जिसमें एक बार प्रवेश करने पर आप बाहर करने पर आप बाहर नहीं आ सकते थे। यदि आप बाहर आना चाहें तो आपको पूरा पेवीलियन पार करना पडेगा। इससे कोई बचाव नहीं था किंतु मैं चाहता था कि मैं शीग्रतापूर्वक बाहर आओं। इस मण्डप में उन्होंने जंगलो, झरनों तथा साधारण कृऍषि की वस्तुओं का प्रदर्शन किया था। जिन्हें आपने भारत में हर स्थान पर देखा होगा तथा उन्हें देख-देख कर थक चुके होंगे। इसमें अनेक चित्र व साधारण लेख थे जो पूर्णतया थका देने वाले थे।

इसके उपरांत में गोवा तथा दमन मण्डप में गया। यह एक गोल छत के नीचे साधारण पैमाने पर बनाया गया था किंतु इसमें केवल भूमि के साधारण चित्रों को दिखाने की अपेक्षा गोवा तथा दवन के प्रत्येक सम्भव कृषि उत्पाद को प्रदर्शित किया गया था। इसमें आनन्दहीन तथा बादामी रेंज की वास्तविकताओं को दिखाया गया था तथा ऐसा व्यक्ति जो वास्तविकता देखना चाहता हो वह आनन्दहीनता महसूस नही कर सकता। वास्तव में, मैं बहुत दिनों से गोवा जाना चाहता था। किंतु प्रदर्शनी के कारण मैं बहुत निराश हो गया। मैं जान गया कि गोवा तथा दमन भारत के अन्य समुद्रतटीय स्थानों से अलग नहीं है।

उसके उपरांत मैने रुसी मण्डप में प्रवेश किया। यह मण्डप बहुत बडे घर जैसे आकार का था। किंतु इसमें केवल वास्तविक लाभदायक वस्तुओं का प्रदर्शन किया गया था। इस मण्डप में एक बडा ट्रैक्टर प्रदर्शित किया गया था। मण्डप के अन्दर चित्रों की पंक्तियां ठीक जिन पर कृषि तथा औद्योगिक व राजनैतिक नेताओं व वैजारिकता की समस्यायें प्रदर्शित की गई थीं। इन चित्रों में एक पर लिखा था: “मौस्को में आपका स्वागत है”।

यहां आपका केवल मॉस्को के फोटो से स्वागत है। अत: सूक्ष्मरुप से कहा जा सकता है कि रुसी मण्डप अन्दर से भी देखने में अच्छा था और बाहर से भी।

Read More.


Go Back