Print Document or Download PDF

पेशे का चुनाव

Feed by Kumar Sanu Cat- Essay

शिक्षा का एक महत्वपूर्ण भाग पेशे का चुनाव करना है। यदि आप स्कूल या कॉलिज में पढते हुए ही अपने लिए पेशे का चुनाव नहीं करते हैं, तो इसका अर्थ यह है कि आपने अपने जीवन के महत्वपूर्ण वर्ष बर्बाद कर दिए हैं। क्योंकि यदि आप पेशे का चुनाव नहीं करते हैं तो जब आप अपनी शिक्षा समाप्त करते हैं तो आप एक घूमते हुए पत्थर की तरह हो जाएंगे जो रोजगार की तलाश में एक स्तम्भ से दूसरे स्तम्भ तक घूमता रहता है। और यदि आपको अपनी पसन्द का पेशा नहीं मिलता है, तो आप परेशान हो जाएंगे। इस स्थिति में आप अपने परिवार की सहायता करने व अपनी जीविका कमाने के लिए कोई गलत कार्य करने के लिए भी तैयार हो जानेगे।

एक व्यक्ति को पेशे का चुनाव करने के लिए सर्वप्रथम अपनी क्षमता, रुचि व स्वाद का ज्ञान होना आवश्यक है। एक व्यक्ति जो खोजी प्रवृति का है और साहसी कार्य करने में रुचि रखता है, उसे रक्षा सेनाओं में जाना चाहिए। और एक व्यक्ति जो पढने-लिखने में अधिक रुचि रखता है। वह लेखक, पत्रकारण या अध्यापक बन सकते हैं। एक व्यक्ति जो एश की सेवा जनता के बीच रहकर करना चाहते है उसे सिविल सर्विसेज में जाना चाहिए। वह व्यक्ति जो शीघ्रतापूर्वक धनी बनना चाहता है, उसे व्यापार, व्यवसाय या उद्योग में जाना चाहिए। वह व्यक्ति जो मेधावी बनना चाहता है, उसे वकालत को अपना पेशा बनना चाहिए।

इसी प्रकार प्रत्येक व्यक्ति को अपनी इच्छा, क्षमताओं व शैक्षिक योग्यता के अनुसार अपना भविष्य व पेशा तय करना चाहिए। क्योंकि यदि कोई व्यक्ति लेखा शास्त्र में परंगत है तो वह वैज्ञानिक नहीं बन सकता। अत: पेशे का चुनाव करने से पूर्व अपनी क्षमताओं पर विचार करना आवश्यक है। क्योंकि यदि आप अपनी योग्यताओं से हटकर या उन पर बिना विचार किए पेशा चुनते हैं, तो आप संतुष्टि प्राप्त नहीं कर पाएंगे और जीवन एक अभिशाप  हो जाएगा।

अत: पेशे का चुनाव सही समय पर व सही जानकारी के साथ करता चहिए।   

Read More.


Go Back