Print Document or Download PDF

उन्नाव से रोगों का उपचार

उन्नाव का वृक्ष छोटा-सा कांटेदार, झाडीनुमा होता है, जिस पर सितम्बर से नवम्बर अक फूल खिलते है। दिसम्बर से मार्च तक फल लगे रहते हैं। यह वृक्ष पंजाब, उत्तर प्रदेश, बंगाल, कश्मीर तथा हिमाचल में पाया जाता है। इसके फल लाल रंग के होते हैं। यह औषधि रुप में प्रयोग किया जाता है।

नेत्र रोग: नेत्र रोग होने पर जैसे, आंखे लाल हो जाना, जलन होनी, दुखने लगे तो इसके पत्तों को गुलाबजल में पीसकर आंखों के ऊपर लेप करने से नेत्र रोगों से मुक्ति मिल जाएगी।

अर्श रोग: अर्श रोग से उन्नाव की जड का काढा बनाकर रोगी को सुबह-शाम आधा प्याला 10 दिन तक सेवन करायें। अर्श रोग दूर हो जाएगा।

शूगर रोग: जिन लोगों को शूगर की बीमारी है-उनको इसके सूखे हुए फल का काढा बनाकर एक कप सुबह-शाम सेवन कराने से 60 दिन में शूगर की बीमारी दूर हो जाती है।

Read More.


Go Back