Print Document or Download PDF

देश विदेश के प्रसिद्ध स्थान 

Feed by Manisha Cat- Education
  • आबू सिंबल :- असवान बांच के निकट नील नदी के पास रेपसीज द्वितीय द्वारा चट्टानों को काटकर प्राचीन मंदिरों के कारण यह स्थान जाना जाता है.
  • एबे :- यूनान के उत्तर-पूर्व में स्थित एक प्राचीन नगर, जहां पर लीडियन क्रोसियस ने अपोलो का उपदेश लिया था. 
  • एडम्स ब्रिज :-  चट्टानों एवं रेत से बना भारत व् श्रीलंका के बीच लगभग 30 किमी लंबा पल है.
  • अजंता व एलोरा :- महाराष्ट्र में ओरंगाबाद के निकट ये गुफाएं हैं. यहां बौद्ध कला की सर्वश्रेष्ठ कृतियाँ देखने को मिलाती है. 
  • अजमेर :- राजस्थान का ऐतिहासिक नगर है, जहाँ 12वीं शताब्दी के प्रसिद्द मुस्लिम सूफी संत ख्वाजा मोइन-उद-दिन चिश्ती की दरगाह है.
  • अकाल तख़्त :- अमृतसर के स्वर्ण मंदिर परिसर में यह स्थित है. ऑपरेशन ब्लू स्टार के दौरान यह टूट गया था. बाद में बुड्ढा दल की देखरेख में इसका पुनर्निर्माण हुआ, परन्तु अग्रवादी सिखों ने इसे दोबारा तोड़ डाला.
  • अल अक्सा मस्जिद :- यह मस्जिद जेरुसलम में स्थित है आवर इस्लाम धर्म के अनुयायी इसे बड़ा पवित्र मानते हैं.
  • अलेक्जेंड्रिया :- यह मिस्र का एक प्रमुख बंदरगाह है. इसकी स्थापना सिकंदर महान ने की थी.
  • अलियाबाद :- पाकिस्तान में हाजी पीर के निकट स्थित अलियाबाद इस कारण चर्चित हुआ क्योंकि यहाँ सिख आतंकवादियों को पाक ने प्रशिक्षण देने के व्यवस्था की थी.
  • अलीबेट :- गुजरात राज्य में भावनगर के निकट यहां सर्वप्रथम ऑफ़ शोर तेल निकाला गया था.
  • इलाहाबाद :- उत्तर प्रदेश का पवित्र नगर, जो गंगा, यमुना वासरस्वती के संगम पर बसा है.
  • अलवाय :- यह केरल का एक नगर है. यहाँ उर्वरक व् मोनाजाइट का उत्पादन होता है.
  • अमरनाथ :- यह जम्मू -कश्मीर राज्य में पहलगाम से लगभग 28 मील दूर है. अमरनाथ में रक्षाबंधन के दिन लोग बर्फ के शिवलिंग के दर्शन करते हैं. 
  • आनंद :- गुजरात राज्य में आनंद, कोऑपरेटिव मिल्क डेयरी के लिए प्रसिद्द है. 'अमूल' नाम से मक्खन, घी व् दुग्ध चूर्ण यहाँ के मुख्य उत्पादन हैं. 
  • आबुजा :- नाइजीरिया की नई राजधानी आबुजा में 5 -7 दिसंबर को राष्ट्रमंडल देशों का राष्ट्राध्यक्षों का सम्मलेन (चोगम -CHOGM ) संपन्न हुआ.
  • आनंदपुर साहिब :- यह पंजाब के रोपड़ जिले में है. यहां सिखों का पवित्र विशाल गुरुद्वारा है.
  • आमेर :- यह जयपुर के निकट है. यहां विशाल किला है, जो अपनी भव्य स्थापत्य कला के लिए प्रसिद्द है.
  • अंकोरवाट :- कपूचिया में स्थित अंकोरवाट में मंदिरों की एक विशाल श्रृंखला है. इनका निर्माण राजा सूर्यवर्धन द्वितीय ने 1113 -1150 के मध्य करवाया था.
  • असवान बाँध :- मिस्र में नील नदी पर बनाया गया विशाल बाँध.
  • ओरंगाबाद :- यह महाराष्ट्र में है. यहां ओरंगजेब का मकबरा है. यह नगर साड़ियों के लिए भी प्रसिद्द है.
  • ओरोबिले :- यह पांडिचेरी से 19 किमी उत्तर में है. यहाँ अरविंद घोष का आश्रम है.
  • आवडी :- चेन्नई के निकट तमिलनाडु में स्थित है. यहाँ भारी वाहनों के निर्माण का कारखाना है.
  • अयोध्या :- उत्तर प्रदेश में फैजाबाद के निकट आयोध्या एक पवित्र हिन्दू नगरी है. यहीं भगवान राम का जन्म हुआ था.
  • एजोर्स :- उत्तर अटलांटिक में द्वीपों का एक समूह है. यहाँ के चार लाख लोगों ने स्वतन्त्र होने के बजाय पुर्तगाली शासन के अधीन रहना पसंद किया.
  • एक्स-ला-शेपल :- पश्चिमी जर्मनी में स्थित एक नगर जहां अनेक संधियां हुई.
  • अलीगढ़ :- उत्तर प्रदेश का एक जिला. यहीं पर सर सैयद अहमद खान ने एम्. ए. ओ. कॉलेज की स्थापना की, जो 1875 में मुस्लिम विश्वविद्यालय बना. वर्ष 2005 के अंत में अलीगढ़ मुस्लिम विश्वविद्यालय को अल्पसंख्यक दर्जा प्रदान किए जाने पर उच्च न्यायालय द्वारा रोक लगाए जाने के सन्दर्भ में यह विशेष चर्चा में आया. 
  • अलमादीन :- स्पेन का एक नगर, जहां पारे का उत्पादन बहुत होता है. 
  • अमृतसर :- पंजाब का सबसे बड़ा नगर, सिखों का प्रसिद्द स्वर्ण मंदिर यहीं है तथा ऐतिहासिक जलियांवाला बाग़ भी यहीं पर है. 
  • बेबीलोन :- यह ईराक में स्थित है. यहां पर पहले हैंगिग गार्डन्स थे. जो सात आश्चर्यों में से एक थे. 
  • बैकानूर :- रूस के कजाकिस्तान में स्थित अंतरिक्ष प्रक्षेपण केंद्र. यहीं से भारतीय अंतरिक्ष यात्री राकेश शर्मा को अंतरिक्ष में सोयुज टी-11 द्वारा अपरिल, 1984 को अंतरिक्ष में भेजा गया. यहीं से कई उपग्रहों का अंतरिक्ष में प्रक्षेपण किया जा चुका है.
  • बैलाडीला :- छत्तीसगढ़ के बस्तर जिले में है. यहाँ लौह अयस्क पाया जाता है.
  • बरौनी :- बिहार में है. यहाँ तेलशोधक कारखाना है.
  • बड़ौदा :- गुजरात का प्रसिद्द नगर लक्ष्मी विलास महल के लिए प्रसिद्द है.
  • बारांकास :- मैक्सिको के निकट उपनगर, जो पूर्णत: सावर ऊर्जा से पोषित है.
  • बेरुत :- लेबनान की राजधानी है. यह हिंसा का प्रमुख केंद्र रहा है.
  • बेथलेहम :- इजराइल में स्थित स्थान जहां ईसा का जन्म हुआ था.
  • बेसलान :- रूस में उत्तरी ओसेतिया में एक शहर जहां पर आतंकवादियों ने सितम्बर 2004 में एक स्कूल पर कब्जा कर लिया तथा वहां पर बच्चों और महिलाओं को बंधक बना लिया. विस्फोटों और गोलियों से 338 बच्चे व् महिला मारे गए व् 400 से अधिक घायल हुए. रूसी सेनाओं ने एक ऑपरेशन में 32 में से 30 आतंकवादियों को मार दिया व् शेष को पकड़ लिया. 
  • भरतपुर :- राजस्थान का एक नगर, जो पक्षी विहार के लिए प्रसिद्ध है.
  • भिलाई :- छत्तीसगढ़ राज्य में दुर्ग के पास स्थित है. यहाँ सार्वजनिक क्षेत्र का इस्पात का कारखाना है. जो रूस के सहयोग से बना था.
  • बिगबेन :- यह एक विशाल घड़ी है, जो ब्रिटिश संसद पर एक टॉवर पर लगी है.
  • भारत-भवन :- यह भोपाल में स्थित मध्य प्रदेश सरकार का कला केंद्र है. विभा-कारंथ काण्ड के कारण यह बहुत चर्चित हुआ. 
  • बोधगया :- बिहार में स्थित है. यहीं पर बुद्ध को महाज्ञान प्राप्त हुआ था.
  • बृहदेश्वर मंदिर :- तंजाबर में राजराजा द्वारा बनवाया गया मंदिर है.
  • बकिंघम पैलेस :- यह लन्दन में महारानी एलिजाबेथ का शाही राजप्रासाद है.
  • बुलंद दरवाजा : - आगरा केनिकट फतेहपुर सीकरी में अकबर ने इसका निर्माण करवाया था. इस दवाजे की ऊंचाई 176 फ़ीट है. यह संसार में सबसे ऊंचा दरवाजा है. 
  • कैम्प डेविड :- अमरीका में मेरीलैंड में यह राष्ट्रपति का अवकाश आरामगृह है.
  • काबोराबासा डेम :- यह मोजाम्बिक में है और अफ्रीका की सबसे बड़ी हाइड्रो इलैक्ट्रिक परियोजना है.
  • कारगिल :- जम्मू कश्मीर में लद्दाख क्षेत्र का एक जिला जहा से पाकिस्तानी घुसपैठियों को मार भगाने के लिए. भारतीय सेना ने 'ऑपरेशन विजय' अभियान चलाया और उसमें शानदार सफलता प्राप्त की. 
  • कोलकाता :- पश्चिम बंगाल की राजधानी और देश का दूसरा सर्वाधिक आबादी वाला ओधोगिक नगर है.
  • बीजिंग :- चीन की राजधानी बीजिंग में वर्ष 2008 के 29वे ओलम्पिक खेल आयोजित किए गए.
  • क्रेप केनेडी :- अमरीका का अंतरिक्ष केंद्र है. यह फ्लोरिडा में है.
  • केपिटोल :- यह अमरीकी संसद की इमारत का नाम है, जो वाशिंगटन में है.
  • चांदीपुर :- ओडिशा में विक्सित किया गया प्रक्षेपण स्थान. यहां से भारत में बनाए गए प्रमुख प्रक्षेपास्त्रो 'अग्नि', पृथ्वी, आदि का परिक्षण किया गया है. 
  • चेरनोबिल :- कीप (यूक्रेन) से 130  किमी दूर स्थित चेरनोबिल में परमाणु विद्दुत का विशाल संयत्र है, यहां एक भयानक दुर्घटना घट चुकी है. 
  • चित्तौड़गढ़ :- यहां राणा कुम्भा द्वारा बनवाया गया विजय स्तम्भ है, राजस्थान में है. 
  • सी. एम्. टॉवर :- टोरंटो (कनाडा) में विश्व का सबसे लंबा खड़ा ढांचा है. इसकी ऊंचाई 553 .33 मीटर है.
  • कार्बेट पार्क :- यह उत्तराखंड में है और जिम कार्बेट के नाम से स्थापित किया गया था.
  • डांडी :- गुजरात कायह एक स्थान है, जहां गांधीजी ने ऐतिहासिक नमक सत्याग्रह चलाया. 
  • रिपो डि जेनेरो :- ब्राजील का प्रमुख नगर, जहाँ जून 1992 में पृथ्वी शिखर सम्मलेन संपन्न हुआ. 
  • ईफिल टॉवर :- फेरिस में 985 फ़ीट ऊंचा लोहे का एक ढांचा है. इसका उपयोग बेतार संचार केंद्र के रूप में होता है. 
  • एटना :- इटली का ज्वालामुखी है.
  • जेनेवा :- स्विट्जरलैंड का सुन्दर नगर और अनेक अंतर्राष्ट्रीय सम्मेलनों का स्थल. 
  • बार्सीलोना :- यहाँ 25वे ओलम्पिक खेल 1992 में संपन्न हुए. यह स्पेन में है.
  • गोल गुम्बज :- बीजापुर (कर्नाटक) में स्थित यह विश्व का सबसे बड़ा गुम्बज है. 
  • गोलान पहाड़ियां :- 1675 वर्ग किमी का पहाड़ी सीरियाई क्षेत्र, जिस पर 1967 में इजराइल ने अह्दिकर कर लिया था.
  • साल्ट लेक सिटी :- अमरीका का साल्ट लेक सिटी में 21वीं शताब्दी के पहले शीतकालीन खेलों की बेज़बानी की गयी, यह खेल सन 2002 में हुए.
  • हंडिया :- मध्य प्रदेश के हरदा जिले की हंडिया तहसील में एक ब्राह्णण परिवार के पास सिखों के दसवें गुरु गोविन्द सिंह के हाथों लिखी हुई एक 'सनद' होने का मामला वर्ष 2000 के प्रारम्भ में ही प्रकाश में आया था. 
  • मांडी :- उत्तर प्रदेश के मुजफ्फरनगर जिले के मांडी गाँव में मई जून 2000 में एक खेत में कराई गए खुदाई के दौरान करोड़ों रूपए मूल्य की सोने की गिन्नियां व् ईंटें आदि प्राप्त हुई. सूचना मिलाने पर जिला प्रशासन ने लगभग 40 लाख मूल्य का सोना सरकारी खजाने में जमा कराया है. 
  • बुर्ज खलीफा :- विश्व की सबसे ऊंचीं इमारत अब दुबई में बुर्ज खलीफा है. इस भवन की ऊंचाई 828 मीटर है. 
  • न्यूयॉर्क :- 11 सितम्बर, 2001 को यहां हुए आतंकी हमले में 'वर्ल्ड ट्रेड सेंटर' के 110 -110 मंजिलों वाले दोनों भवन ध्वस्त हो गए. इन हमलों में हजारों व्यक्ति मारे गए. 
  • लोनार :- महाराष्ट्र के लोनार स्थान का अध्ययन  'नासा' के वैज्ञानिक कर रहे हैं. यहाँ स्थित गड्ढा पृथ्वी पर स्थित उन दो ख़ास गड्ढों में से एक है, जो उल्का के टकराने से बने है. लोनार की धरती एवं मंगल गृह की धरती में बहुत अधिक समानता है. इसलिए इस गढ्डे के अध्ययन से कुछ रहस्य उजागर हो सकते हैं. दूसरा ऐसा गड्ढा रूस में है. 
  • वाशिंगटन :- यहाँ पर तीसरे विमान ने पेंटागन के भवन में टक्कर भारी, जिससे सैकड़ों व्यक्ति मारे गए और इसका कुछ भाग नष्ट हो गया. 
  • तवांग :- अरुणाचल प्रदेश का यह क्षेत्र तिब्बती धर्मगुरु दलाई लामा के 8 नवम्बर, 2009 के आध्यात्मिक दौरे के कारण चर्चित रहा. डाली लामा ने वहां स्थित 400 वर्ष पुराने बौद्ध मठ में धार्मिक एवं आध्यात्मिक भाषण दिया. दलाई लामा के दौरे को लेकर चीन ने भारत सरकार से कडा ऐतराज जताया था. उल्लेखनीय है की तिब्बत में चीन प्रशासन के खिलाफ 1959 में विद्रोह नाकाम रहने के बाद दलाई लामा हिमालय पार कर तावान के इसी बौद्ध मठ में आए थे. 
  • लालगढ़ :- प. बंगाल में लालगढ़ माओवादियों व प्रशासन के बीच भारी संघर्ष का केंद्र जून 2009 में बना था. इस स्थान पर माओवादियों विद्रोहियों ने पश्चिम बंगाल के मिदनापुर पुलिस रेंज के लालगढ़ थाने पर अपना कब्ज़ा जमा लिया था इसके साथ ही लगभग 42 गावों में अपनी सत्ता स्थापित कर राखी थी. माओवादियों के कब्जे से इसे मुक्त कराने के लिए अर्द्धसैन्य बलों के साथ  साथ एंटी नक्सल फ़ोर्स कोबरा को सक्रिय किया गया .
  • रामपुर डाबही :- 81वें ऑस्कर पुरस्कारों में मेगान मिलान के जिस बृत्तचित्र 'स्माइल पिंकी' को सर्वश्रेष्ठ लघु वृत्तचित्र का ऑस्कर प्राप्त हुआ है. वह वृत्तचित्र उत्तर प्रदेश के मिर्जापुर जिले के रामपुर डबही गाँव की पिंकी पर केंद्रित हैं.  
  • कानकुन :- मैक्सिको के इस शहर में जलवायु परिवर्तन पर 16वें संयुक्त राष्ट्र सम्मलेन का आयोजन नवमबर दिसंबर 2010 में किया गया.
  • हरिद्वार :- 12 वर्ष बाद लगाने वाला महाकुम्भ मेला सन 2010 में हरिद्वार में आयोजित किया गया.
  • अबोटाबाद :- अमरीकी 'सील्स' (SEALS) कमांडोज ने पाकिस्तान में राजधानी इस्लामाबाद से लगभग 100 किमी दूर अबोटाबाद कसबे में एक तिमंजले कोठी में अलकायदा प्रमुख ओसामा बिन लादेन को ऑपरेशन जेरोनिमो के तहत मार गिराने में सफलता 2 मई, 2011 को प्राप्त की. मीडिया रिपोर्टों के अनुसार ओसामा काफी समय से इतने गुपचुप तरीके से एबटाबाद में रह रहा था की सैकी भनक पाकिस्तान की खुफिया एजेंसियों को भी नहीं थी. 

Fastread.in Author Manisha Dubey JhaDear Reader, My name is Manisha Dubey Jha. I have been blogging for 3 years and through the Fast Read.in I have been giving important educational content as far as possible to the reader. Hope you like everyone, please share your classmate too. As a literature person, I am very passionate about reading and participating in my thoughts on paper. So what is better than adopting writing as a profession? With over three years of experience in the given area, I am making an online reputation for my clients. If any mistakes or wrong in the article, please suggest us @ fastread.ait@gmail.com

Read More.


Go Back