Print Document or Download PDF

केसर से रूप बढ़ाए, सेहत सुधारे

मसालों में शामिलकेसर के अनेक लाभ है। सौंदर्य में वृद्धि करने के साथ-साथ यह सेहत में भी बढ़ोतरी करती है। इसके फायदों और इस्तेमाल के तरीकों के बारे में आइये जाने : -

केसर एक सुगंध देने वाला पौधा है। इसके पुष्प को हिंदी में केसर, उर्दू में जाफरान और अंगरेजी में सैफरॉन कहते हैं। पतली बाली सरीखा केसर 15 - 25 सेंटीमीटर ऊंचा होता है। पत्तियां संकरी, लम्बी और नालीदार होती है। इनके बीच से पुष्पदंड निकलता हिअ, जिस पर पुष्प होते हैं।

इसका यपयोग मक्खन आदि से संबंधित खाद्य पदार्थो में रंग एवं स्वाद लाने के लिए किया जाता है। चिकित्सा में इसे पाचक, वात-कफ नाशक माना गया है। इस कारण आयुर्वेदिक नुस्खों, खाद्य व्यंजनों, देव पूजा आदि में तो केसर का उपयोग सालों से होता आ रहा है। 
यह उत्तेजक, वाजीकारक, त्रिदोष नाशक, वातशूल शमन करने वाली है। इतना ही नहीं, यह मासिक धर्म ठीक करने वाली, त्वचा को निखारने वाली, रक्तशोधक, प्रदर और निम्न रखतचाप को ठीक करने वाली भी है। कफ का नाश करने, मन को प्रसन्न रखने मस्तिष्क को बल देने वाली केसर ह्रदय और रक्त के लिए हितकारी है। इसका उपयोग आयुर्वेद और यूनानी नुस्खों में भी किया जाता है।

केसर की फायदे

  • महिलाओं के माससिक धर्म के दौरान होने वाले दर्द को दूर करने के लिए 2 - 2 राती केसर दूध में घोलकर दिन में तीन बार देना फायदेमंद होता है।
  • बच्चों को सर्दी, जुकाम, बुखार होने पर क ेसर की एक पंखुड़ी पानी में घोंटकर इसका लेप छाती, पीठ और गले पर लगाने आराम होता है।
  • चन्दन को केसर के साथ घिसकर इसका लेप माथे पर लगाने से सर, आँख और मस्तिष्क को शीतलता, शान्ति और ऊर्जा मिलाती है। इससे नाक से रक्त का गिरना बंद हो जाता है और सिरदर्द जल्द दूर होता है।
  • बच्चे को सर्दी हो तो केसर की 1  -2 पंखुड़ी 2 -4 बूँद दूध के साथ मिलाएं, ताकि केसर दूध में घुल जाए। इसे एक चम्मच दूध में मिलाकर भच्चे को सुबह -शाम पिलाए। इससे उसे काफी लाभ होगा।
  • माथे, नाक, छाती व् पीठ पर लगाने के लिए केसर, जायफल व लौंग का लेप पानी में बनाएं और रात को सोते समय इसका लेप करें।
  • केसर दूध पौरुष व कांतिवर्धक होता है। जाड़े में गर्म व गर्मी में ठन्डे दूध के साथ केसर के उपयोग की सलाह दी जाती है।
  • चोट लगाने पर या त्वचा के खुलास जाने पर केसर का लेप लगाने से आराम मिलता है। 
  • पेट से जुडी परेशानियां, जैसे अपच, दर्द वायु विकार आदि में केसर काफी उपयोगी साबित होती है।

Read More.


Go Back