Print Document or Download PDF

डिजिटल मार्केटिंग के क्षेत्र में बनाएं कैरियर

Feed by Manisha Cat- Education

Create a career in the field of digital marketing

ई-मेल आईडी व मोबाइल फोन पर मैसेज के जरिये एक दिन मेन न जाने कितनी बार आप एडवर्टाइजिंग मैसेज देखते होंगे. इसी से आप अंदाजा लगा सकते हैं की इंटरनेट की दुनिया ने मार्केटिंग को एक नई दिशा दे दी है. आज शहर ही नहीं, बल्कि ग्रामीण क्षेत्रों में भी इंटरनेट का प्रयोग किया जा रहा है. इंटनेट के तेजी से प्रसार साथ ही डिजिटल मार्केटिंग का क्षेत्र भी विकसित हो रहा है. आईएमईआई की रिपोर्ट की माने, तो 2018 तक डिजिटल मार्केटिंग के क्षेत्र में डेढ़ से दो लाख रोजगार के नए अवसर सृजित होंगे. ऐसे मेन यदि आप इंटरनेट से जुडी तकनीकी पर बेहतर पकड़ रखते हैं, तो डिजिटल मार्केटिंग समेत कई अन्य क्षेत्रों में आपके लिए बेशुमार मौके होंगे.

Today the internet is being used not only in the city but also in rural areas. The rapid spread of Internet and the field of digital marketing is also evolving. According to the report of IMEI, new opportunities for 1.5 to 2 lakh jobs will be created in the field of digital marketing by 2018. If you have good gains on internet-related technologies such as Maine, there will be numerous opportunities for you in many other areas including digital marketing.

इंटरनेट, आज के दौर मेन लोगों की जीवनशैली का महत्वपूर्ण हिस्सा बन चूका है. ऑनलाइन एजुकेशन से लेकर शॉपिंग करने, फिल्म या यात्रा की टिकट बुक करने जैसे ढेरों काम इंटरनेट से घर बैठे ही किये जा रहे हैं. यही वजह है की इंटरनेट उपभोक्ताओं की संख्या तेजी से बढ़ रही है. आईएमएआई की रिपोर्ट के अनुसार इस साल लास्ट तक भारत में इंटरनेट उपभोक्ताओं की संख्या 45 करोड़ से बढ़ कर 46 .5 करोड़ तक होने का अनुमान लगाया जा रहा है. इंटरनेट की बढ़ती उपयोगिता ने ऐसे कई कैरियर विकल्प सामने रखे हैं, जो टैक्नोलॉजी को समझ रखनेवाले युवाओं को कैरियर के बेहतरीन मौके उपलब्ध करा रहे हैं. इन्हीं मेन से एक है डिजिटल मार्केटिंग का क्षेत्र.

क्या है डिजिटल मार्केटिंग 

डीसी भी प्रोडक्ट या सर्विस की इंटरनेट, कम्प्यूटर और इलेक्ट्रानिक मीडिया के माध्यम से की जानेवाली मार्केटिंग को डिजिटल या ऑनलाइन मार्केटिंग कहते है. डिजिटल मार्केटिंग, इंटरनेट मार्केटिंग के एक प्रमुख प्रक्रिया है. जिसमें सोशल मीडिया, मोबाइल, ई-मेल, सर्च इंजन ऑप्टिमाइजेशन, सर्च इंजन मार्केटिंग, सोशल मीडिया ऑप्टिमाइजेशन, सोशल मीडिया मार्केटिंग आदि का प्रयोग किया जाता है. एक सर्वे की माने, तो आनेवाले पांच सालों मेन डिजिटल मार्केटिंग के क्षेत्र मेन १.५ से दो लाख रोजगार के नए अवसर पैदा होने की उम्मीद जयायी जा रही है. ऐसे मेन ई कॉमर्स की समझ और तकनीक का ज्ञान रखनेवाले युवाओं के लिए यह एक बेहतरीन कैरियर ऑपशन साबित हो सकता है.


कौन कर सकता है प्रवेश 

यूं तो, डिजिटल मार्केटिंग के क्षेत्र मेन किसी भी संकाय मेन स्नातक प्राप्त करनेवाले उम्मीदवार प्रवेश कर सकते हैं, लेकिन डिजिटल मार्केटिंग मेन स्पेसलाइजेशन करनेवाले उम्मीदवारों को आगे बढ़ने के ज्यादा विकल्प मिलते हैं, इसके लिए उम्मीदवार एडवासन्त प्रोग्राम इन डिजिटल मार्केटिंग, एग्जीक्यूटिव प्रोग्राम इन डिजिटल मार्केटिंग, डिजिटल मार्केटिंग सर्टीफिकेट कोर्स आदि कर सकते हैं, डिजिटल मार्केटिंग कोर्स के दौरान छात्रों को मुख्य रूप से ऑनलाइन एडवर्टाइजिंग, स्ट्रेटजी, मार्केटिंग कैम्पेन एनलाइसिस, कम्यूनिकेशन स्ट्रेटजी, टेक्नोलॉजी, बेसिक मार्केटिंग कॉन्सेप्ट, सर्च इंजन मार्केटिंग और टारगेट मार्केट आइडेंटिफिकेशन की जानकारी दी जाती है. 

कहाँ कर सकते हैं काम 

डिजिटल मार्केटिंग के क्षेत्र मेन प्रवेश करनेवाले उम्मीदवारों को डिजिटल मार्केटिंग एजेंसियों, मीडिया एजेंसियों, पब्लिक रिलेशन एजेंसियों, सोशल मीडिया कंसल्टेंसी और मार्केट रिसर्च फ़ार्म मेन काम करने के मौके मिल सकते हैं. साथ ही एडवर्टाइजिंग एजेंसी भी बड़े स्तर पर डिजिटल मार्केटिंग प्रोफेशनल्स को हायर करते हैं.

प्रोफ़ाइल एवं जिम्मेवारियां क्या होता है

इन क्षेत्र मेन काम करनेवाले फ्रोफेशनल्स को डिजिटल मार्केटिंग मटीरियल तैयार करना और उसे मेंटेन रखने का काम करना होता है. इसके अतिरिक्त कंपनी के लिए फ्रोफेशनल्स वेब बैनर एड, ई-मेल और वेबसाइट बना कर उनकी ब्रांडिंग करने, इंटरनेट और डिजिटल टेक्नोलॉजी के लिए मार्केटिंग कैम्पेन तैयार करने और मोबाईल व शोशल मीडिया के जरिये प्रोडक्ट या सर्विस का प्रचार -प्रसार करने का काम करते हैं इस दौरान उम्मीदवारों को निम्न भूमिकाएं निभानी पर सकती है:- 

सर्च इंजन ऑप्टिमाइजर (एसईओ) : आज हर कंपनी और सर्विस प्रोवाइडर चाहता है की उसके वेब पेज सर्च रिजल्ट्स में सबसे ऊपर दिखाई दें, इसलिए वे अपनी वेबसाइट्स की सामग्री को सर्च इंजनों पर बेहतर रैंकिंग पाने के लिहाज से संशोधित करवाते हैं, इस प्रक्रिया को सर्च इंजन ऑप्टिमाइजेशन और इस प्रक्रिया के अंतर्गत काम करनेवाले प्रोफेशनल को सर्च इंजन ऑप्टिमाइजर कहते हैं, किसी भी वेब पेज को कितनी बार देखा गया, यह देखने के साथ साथ एस इ ओ का मुख्य काम गूगल, याहू जैसे सर्च इंजनों पर अपनी वेबसाइट की विजिबिलटी को बढ़ाना है. इस दौरान इन्हें रिसर्च, कंटेंट डेवलपमेंट, टेक्टिंग आदि काम भी करना पड़ सकता है.     

सर्च इंजन मार्केटिंग (एसइएम) :- इस प्रक्रिया मेन स्पोंसर्ड प्लेसमेंट्स व एडवर्टाइजिंग के माध्यम से वेबसाइट की विजिबिलटी को बढ़ाने का काम किया जाता है. इस प्रक्रिया के अंतर्गत काम करनेवाले सर्च इंजन मार्केटिंग स्पेशलिस्ट का यही काम होता है की वे न केवल ज्यादा से ज्यादा ट्रैफिक को अट्रैक्ट करें, बल्कि उसे बिजनेस में भी बदले. 

सोशल मीडिया मार्केटिंग (एस एम एम) सोशल मीडिया मार्केटिंग, सोशल वेबसाइट्स के माध्यम से किसी कंपनी अथवा उसके प्रोडक्ट की मार्केटिंग करना है. इसके माध्यम से किसी प्रोडक्ट व सर्विस को सोशल साइट्स पर बेहद लोकप्रिय बना दिया जाता है, जिससे उसकी बिक्री में भारी बढ़ोतरी हो जाती है. इससे सबसे अधिक ये सोशल साइट्स लाभदायक है, जिन पर ज्यादा ट्रैफिक आता है, यदि आप फेसबुक, ट्विटर आदि के उपयोगकर्ता है, तो अपने इस तरह के कई विज्ञापन देखे होंगे. सोशल मीडिया मार्केटिंग में मुख्य तौर पर दो तरह के काम करने होते हैं :- प्रमोशन और मॉनिटरिंग, प्रमोशन के तहत सोशल मीडिया के माध्यम से ब्रांड के प्रति लोगों में जागरूकता और बिक्री को बढ़ाना, नए उत्पादों को लॉन्च करना, री-लॉन्च आदि सम्मिलित होता है. मॉनिटरिंग में यह समझना होता है की लोग ब्रांड को कैसे ले रहे हैं और रिस्पांस क्या मिल रहा है.

ई-मेल :- भारत में इंटरनेट की बढ़ती पहुँच एवं प्रचलन के बीच ई-मेल के जरिये उपादों का प्रचार प्रसार करने का चलन काफी तेजी से बढ़ा है. आप भी अपने ई-मेल इनबॉक्स में प्रतिदिन प्रोडक्ट मार्केटिंग से संबधित कई मेल देखते होंगे. एक रिसर्च रिपोर्ट के अनुसार नए ग्राहक जोड़ने के लिए सोशल मीडिया के मुकाबले ई-मेल कहीं ज्यादा कारगर है. ऐसे में ई-मेल मार्केटिंग के क्षेत्र में युवाओं के लिए कई मौके विकसित हो रहे हैं .

मोबाइल मार्केटिंग :- स्मार्टफोन यूजर्स की संख्या तेजी से बढ़ रही है. स्मार्टफोन इंटरनेट एक्सेस करने का सबसे उपयुक्त जरिया बन गया है. मार्केट रिसर्च के आंकड़े कहते है की करीब 45 फीसदी मार्केटिंग ई-मेल स्पार्टमें पर पढ़े जाते हैं. इसके अतिरिक्त एसएमएस, प्रोमो ऑफर एवं एप की मदद से भी मोबाइल पर प्रोडक्ट की मार्केटिंग की जाती है. मार्केटिंग के इस क्षेत्र में आप मोबाइल मार्केटिंग मैनेजर, मोबाईल कैम्पेन मैनेजर, मोबाईल एप मार्केटिंग मैनेजर आदि के रूप में कैरियर बना सकते है. 

वेब एनालिटिक्स :- वेब एनालिटिक्स, डिजिटल मार्केटिंग का सबसे दिलचस्प पहलू है, इसके अन्तर्गत काम करनेवाले प्रोफेशनल्स को ट्रैफिक एनालिसिस, बिजनेस एन्ड मार्केटिंग रिसर्च और वेबसाइट ट्रैफिक को बढ़ाने की जिम्मेदारी निभानी होती है. 

Read More.


Go Back