Print Document or Download PDF

मैनेजमेंट का कोर्स कर बने भविष्य के बिजनेस लीडर्स 

Feed by Manisha Cat- Education

इंटरनेशनल और नेशनल कंपनियों के बीच तेजी से बढ़ती प्रतिस्पर्धा ने प्रभावी और सुनियोजित प्रबंधन की मांग और बढ़ा दी है. यही वजह है की भारतीय हो या विदेशी, हर बिजनेस कम्युनिटी अपने प्रबंध तंत्र को प्रभावी बनाने के लिए ट्रेंड फ्रोफेशनल्स को तरजीह दे रही है. बिजनेस कम्युनिटी की यह मांग मैनेजमेंट की पढ़ाई कर आनेवाले युवाओं के लिए प्रोफेशनल और परसनल ग्रोथ का जरिया बन रही है. दरअसल, मैनेजमेंट का आधारभूत उद्देश्य ही किसी संस्था के मानव, भौतिक और वित्तीय संसाधनों का व्यवस्थित तरीके से इस्तेमाल कर लाभ और विकास को सुनिश्चित करना होता है. मैनेजमेंट स्किल और इससे जुडी तकनीकी आज इंडस्ट्री या कॉर्पोरेट तक सीमित नहीं है, बल्कि अलग-अलग, यहां तक की परंपरागत क्षेत्रों में भी इस्तेमाल हो रही है. एग्रीकल्चर, फ्रोमैसी, टूरिज्म, हॉस्पिटेलिटी, इन्फॉर्मेशन टेक्नोलॉजी, टेलीकॉम, रियाल एस्टेट समेत कोइ भी क्षेत्र मैनेजमेंट से अछूता नहीं है. आज कैरियर की संभावनाएं सभी जगह मौजूद है, बहरते सही तलाश और उचित परख हो.  

Doing management courses for future business leaders

Doing management courses for future business leaders

पढ़ाई के लिए कौन सा चुने प्रतिष्ठित संस्थान 

मैनेजमेंट में कैरिअर की मजबूत नींव रखें में संस्थान की भूमिका बहुत बड़ी होती है. यह सच है की आईआईएम समेत टॉप बी स्कूलों में प्रवेश के लिए छात्रों को एड़ी छोटी का जोर लगाना पड़ता है. अखिल भारतीय स्टार पर आयोजित होनेवाली रपवेश परीक्षाओं में लाखों छात्र अच्छे संस्थान में प्रवेश की उम्मीद लिए जद्दोजहद करते है. एक बार अच्छे संस्थान और मनमाफिक मैनेजमेंट की ब्रांच में प्रवेश मिल जाने के बाद आगे की राह आसान हो जाती है. ज्यादातर संस्थानों में मार्केटिंग, फाइनेंस, ह्यूमन रिसोर्स मैनेजमेंट और ऑपरेशन जैसे परम्परागत कोर्स संचालित किये जाते है. इंडस्ट्री की बढ़ती मांग को देखते हुए आईटी, फॉरेन ट्रेड, इंटरनेशनल बिजनेस, एग्री-बिजनेस, एंटरप्रेन्योरशिप, टेलीकॉम, एडवर्टाइजिंग, टूरिज्म, हॉस्पिटल मैनेजमेंट जैसे कोर्स करानेवाले संस्थानों की संख्या कम नहीं है. 

विश्लेषणात्मक होना जरूरी 

मैनेजमेंट में एमबीए या पीजी डिप्लोमा करने के लिए जहां तक षैखानिक योग्यता का सवाल है, तो कम से कम 50 प्रतिशत अंकों के साथ (45 प्रतिशत अनुसूचित जाती/अनुसूचित जनजाति/पीडब्ल्यूडी) होना पर्त्याप्त है, लेकिन प्रतिष्ठित संस्थानों में प्रवेश तार्किक और विश्लेषणात्मक क्षमता के आधार पर ही मिलता है. इसके लिए बाकायदा लिखित परिक्षा, समूच चर्चा और व्यक्तिगत साक्षात्कार जैसे परिक्षा के विभिन्न चरणों से गुजरना होता है. टॉप बी स्कूलों में प्रवेश के लिए कैट, मैट, स्नैप, सीमैट आदि प्रवेश परीक्षाएं होती है. सभी परीक्षाओं का प्रारूप लगभग एक जैसा ही होता है, वर्बल एबिलिटी, डाटा इंटरप्रिटेशन व लॉजिकल रीजनिंग, जनरल नॉलेज से वस्तुनिष्ठ प्रकार के प्रश्न पूछे जाते है. 

कैसे करें कैट का मैनेजमेंट 

कैट परीक्षा में सफलता आपकी तैयारी के मैनेजमेंट पर निर्भर करेगी, चाहे वह टाइम मैनेजमेंट हो, स्ट्रेस मैनेजमेंट हो या फिर सिलेबस. कुछ महीनों की तैयारी में सफलता सुनिश्चित करने के लिए समयबद्ध तरीके से सिलेबस को पूरा करना होता है. साथ ही स्पीड एवं एक्यूरेसी इस परिक्षा की सबसे बड़ी मांग है, जिसके बिना सफलता की कल्पना भी नहीं की जा सकती. मैनेजमेंट की प्रवेश परीक्षाओं में सफलता के लिए लगातार सीखना, अभ्यास करना, संकल्पित रहना, समय का पाबन्द रहना और सकारात्मकता बरकरार रखना जरूरी होता है.

मजबूती और कमजोरी पहचाने : अपनी तैयारी के मूल्यांकन का सबसे अच्छा मॉक टेस्ट माना जाता है. इससे कमजोरी और मजबूती की पहचान करना आसान हो जाता है. स्टडी मटीरियल्स से तैयारी करते समय कांसेप्ट पर फोकस करे, इससे परिक्षा में ज्यादा से ज्यादा सवालों का जवाब दे सकेंगे और साथ ही स्पीड व एक्यूरेसी भी बढ़ेगी. हर टेस्ट के बाद आपको कुछ न कुछ जरूर सीखने को मिलेगा. 

अभ्यास है जरूरी : नियमित अभ्यास से फॉर्मूला, वोकेबुलरी, ग्रामर रूल्स पर मजबूत पकड़ बनेगी, इससे भी ज्यादा ख़ास है की परीक्षा हॉल में प्रश्नों को समझने में आसानी होगी. इससे कम समय में अधिक से अधिक सवालों का जवाब दे सकेंगे. 

एक्यूरेसी से न करें समझौता : इस परिक्षा में एक्यूरेसी का महत्त्व काफी अधिक है, क्योंकि ज़रा सी लापरवाही आपके स्कोर में कटौती कर सकती है. सवालों को तेज गति से हल करते समय निगेटिव मार्किंग का जरूर ध्यान रखे. 

कैट पर नजर टिकाएं रखे. : कैट की तैयारी करते समय शान्ति से अपने लक्ष्य पर नजर बनाये रखे. नर्वस होना किसी चुनौती का हल नहीं है. बल्कि कामयाबी की राह में यह सबसे बड़ी बाधा है. ऐसे में जरूरी है की तैयारी के साथ शुरू हुए अपने आत्मविश्वास को परिक्षा हॉल तक बनाये रखे.  

mat courses, cat courses, management course

Read More.


Go Back