Print Document or Download PDF

ग्राफिक डिजाइनिंग में कैरियर का है भरमार अवसर 

Feed by Manisha Cat- Education

डिजिटल क्रान्ति के मौजूदा दौर में ग्राफिक डिजाइन ने रचनात्मकता के आयाम को वृहद् आकार दे दिया है. विभिन्न दृश्य माध्यमों के लगातार विस्तार के साथ ग्राफिक डिजाइनिंग का दायरा भी लगातार बढ़ा है. कैरियर संभावनाओं के लिहाज से कैसा है यह क्षेत्र, जाने विस्तार से..

Career opportunities in graphic designing are a bumpy opportunity.

Career opportunities in graphic designing are a bumpy opportunity.

आप उत्पादों की पैकेजिंग, पोस्टर, विज्ञापन, वेबसाइट, बिल बोर्ड, ब्रांडिंग और प्रकाशनों को अक्सर देखते ही होंगे. इनमें से कुछ ऐसे भी होते है, जो हमेशा हमेशा के लिए आपके जेहन में बैठ जाते है. दरअसल इसके पीछे दृश्य संचार (विजुअल कम्युनिकेशन) की एक ऐसी कला होती है, जो दर्स्कोन पर कल्पना, शब्दों और विचारों के दम पर विशिष्ट प्रभाव डालने में सफल हो जाते है. ग्राफिक डिजाइनिंग कल्पना और रचनात्मक्ता का ही उत्कृष्ट प्रतिमान होता है. इस क्षेत्र में आने की पहली शर्त यह है की आपके पास उपयोगी तत्वों, संदेशो. और जीवन व् समाज से मिलनेवाले अनुभवों का गहन प्रेक्षण करने का गन होना चाहिए, इस कला का जन्म ही जिज्ञासा नाम के बीज से होता है और कल्पनाशीलता से यह कला अंकुरित होती है और रचनाशीलता से पुष्पित होती है. 

डिजाइन कोइ नई धरना बन कर नहीं उभरी है, बल्कि आदि काल से ही मनुष्य पशुओं और प्राकृतिक के विभिन्न स्वरूपों को गुफाओं की दवारों और चट्टानों पर चित्रित करता रहा है. 20वीं सड़ी के अंतिम दशक में कम्प्युटर के आने से इसने नया रूप ले लिया.

क्या होती है ग्राफिक डिजाइनिंग What is Grapic Designing

एक ग्राफिक डिजाइन किसी डिजाइन को तैयार करने के लिए कल्पनाओं, टाइपोग्राफी या मोशन ग्राफिक्स की मदद लेता है. यदि आप किसी साज-सजा या कलात्मकता को देखकर मूल्यांकन कर पाने में समर्थ हैं तो निश्चित ही आप अपने अंदर बैठे डिजाइनर को कामयाबी की ऊंचाइयों तक ले जा सकते है. इस खेत्र में आने के लिए आपको आसपास की वस्तुओं और संदेशो के आशय व उसके पड़नेवाले प्रभावों का प्रेक्षण कर जिज्ञासा विक्सित करनी होती है. एक अच्छे ग्राफिक डिजाइनर से ड्राइंग, टाइपोग्राफी, ले-आउट, डायग्राम में विशेज्ञता के साथ रंगो, फोटो, कलाकृति और फॉण्ट आदि के संयोजन की कला आनी चाहिए, इन मूलभूत जानकारियों के आधार पर ही आप दृश्य संचार कौशल को उत्कृष्टता तक ले जा सकते है. 

सॉफ्टवेयर की बेहतर समझ जरूरी 

आज के दौर में ग्राफिक डिजाइन की काबिलियत आपके सॉफ्टवेयर की समझ पर निर्भर करती है. आम तौर पर इस्तेमाल होनेवाले डिजाइन सॉफ्टवेयर पैकेजों में एडोब क्रिएटिव शूट, कोरल ड्रॉ ग्राफिक्स शूट बेहद लोकप्रिय है. इमेज और ग्राफिक्स पर काम के लिए फोटोशॉप और इलस्ट्रेटर का बखूबी इस्तेमाल किया जाता है. एक अच्छे जानकार के तौर पर विज्ञापन एजेंसियों, मार्केटिंग फर्मो, डिजाइन स्टूडियों, इ-लर्निंग कंपनियों और बड़े डिजाइन संगठनों में कैरियर की शुरुआत कर सकते है. 

कई स्तरों पर उपलब्ध है पाठ्यक्रम 

सूचना और संचार प्रोधौगिकी की तीव्र प्रगति के साथ भारतीय तथा विदेशी कंपनियों में ग्राफिक डिजाइनरों के लिए अवसरों की कमी नहीं है. इस खेत्र में अच्छे कैरियर की दहलीज पर पहुंचाने का दवा तो देशभर में सैकड़ों संस्थान करते है. लेकिन एक बात ध्यान रखें की कोर्स और संस्थान को चुनने से पहले सभी जरूरी जानकारियां जुटाने के बाद हे आगे कदम बढ़ाएं, डिजाइन के क्षेत्र शिक्षा में पहला नाम राष्ट्रीय डिजाइन संस्थान (एनआईडी), अहमदाबाद का आता है. यहां पर आप स्नातक व परास्नातक दोनों स्तरों पर कोर्स कर सकते है. आमतौर पर सनतक डिग्री स्तर के पाठ्यक्रम चार वर्ष अवधि के होते है. 

इन पदों पर मिलेगी नौकरी

फ्लैश डिजाइनर, इलस्ट्रेटर, वेब डिजाइनर, लोगो डिजाइनर, क्रिएटिव डायरेक्टर./आर्ट डायरेक्टर, ब्रैंड आइडेंटिटी डिजाइनर, ले-आउट आर्टिस्ट आदि. 

कुछ प्रमुख संस्थान 

राष्ट्रीय डिजाइन संस्थान, पालड़ी, अहमदाबाद 

  • डिजाइन विभाग, आईआईटी, गुवाहाटी 
  • ओधोगिक डिजाइन केंद्र, आईआईटी बॉम्बे, मुंबई 
  • डिजाइन प्रोग्राम, आईआईटी कानपुर, 
  • भारतीय डिजाइन एवं नवप्रवर्तन विद्यालय, मुंबई  

Read More.


Go Back